The smart Trick of Affirmation That No One is Discussing






“डिंग डोंग”, दरवाज़े की घंटी एक बार फिर से बजी.

वह भोली थी मगर ऐसी नादान न थी। मेरी खुमार-भरी आंखे और मेरे उथले भाव और मेरे झूठे प्रेम-प्रदर्शन का रहस्य क्या उससे छिपा रह सकता था? लेकिन उसकी रग-रग में शराफत भरी हुई थी, कोई कमीना ख़याल उसकी जबान पर नहीं आ सकता था। वह उन बातों का जिक्र करके या अपने संदेहों को खुले आम दिखलाकर हमारे पवित्र संबंध में खिचाव या बदमज़गी पैदा करना बहुत अनुचित समझती थी। मुझे उसके विचार, उसके माथे पर लिखे मालूम होते थे। उन बदमज़गियों के मुकाबले में उसे जलना और रोना ज्यादा पसंद था, शायद वह समझती थी कि मेरा नशा खुद-ब-खुद उतर जाएगा। काश, इस शराफत के बदले उसके स्वभाव में कुछ ओछापन और अनुदारता भी होती। काश, वह अपने अधिकारों को अपने हाथ में रखना जानती। काश, वह इतनी सीधी न होती। काश, अव अपने मन के भावों को छिपाने में इतनी कुशल न होती। काश, वह इतनी मक्कार न होती। लेकिन मेरी मक्कारी और उसकी मक्कारी में कितना अंतर था, मेरी मक्कारी हरामकारी थी, उसकी मक्कारी आत्मबलिदानी।

सुमति का गुस्सा तो बढ़ता ही जा रहा था. उसके हाथ काँप रहे थे जब वो अपने स्तनों को अपनी साड़ी से छुपाने की कोशिश कर रही थी. आज से पहले उसके लिए ये परिस्थिति कभी आई नहीं थी. पर एक अनजान आदमी की अनुपस्थिति में शायद वो थोड़ी डरी हुई थी. “क्या हुआ, सुमति? ये मैं हूँ. चैतन्य! मुझसे क्या शर्माना. अब तो एक महिना भी नहीं बचा है जब हम दोनों के बीच की सारी दीवारे ढह जाएँगी.

Entry the limitless benefits of meditation quickly, properly, and simply: Start with EquiSync®

बहुत संभव है कि मैं उन्हें पहले से जानती हूँ. शायद वो चैताली के माता पिता होंगे. (सुमति की शादी चैताली नाम की लड़की से होने वाली थी. पर इस नए परिवर्तन के बाद चैताली चैतन्य बन चुकी थी.)”, सुमति खुद से बातें करने लगी. सुमति को साड़ी पहन कर शालीनता से चलना पहले से ही आता था. आखिर वो इंडियन लेडीज़ क्लब की फाउंडर थी. उसने न जाने कितने ही आदमियों को सुन्दर औरत बनाया था. इन सबके बाव्जूद, अब वो खुद एक पूरी औरत है, इस बात का उसे यकीन नहीं हो रहा था, और फिर चैताली, उसकी होने वाली पत्नी, अब आदमी बन चुकी थी. किसे यकीन होगा ऐसी बातों का? सुमति अपने कमरे से बाहर आई. उसके सास-ससुर सोफे के बगल में अब तक खड़े खड़े रोहित और चैतन्य से बातें कर रहे थे. सुमति सही थी… उसके सास-ससुर चैताली के ही माता पिता थे. कम से कम ये नहीं बदला. उसने उन्हें देखा और तुरंत ही अपने सर को अपने पल्लू से ढंकती हुई उनके पैर छूने के लिए झुक गयी. जैसे कोई भी आदर्श बहु करती. एक तरफ तो सुमति चैतन्य से शादी नहीं करना चाहती थी पर फिर भी उसे बहु बनने में जैसे कोई संकोच न था.

“स्वागत है चैतन्य जिजाजी! आपके माता-पिता कहा रह गए? साथ नहीं दिख रहे” रोहित की बातें सुमति सुन सकती थी. तो घर पे सुमति के होने वाले “वो” आ ही गए. पता नहीं क्यों सुमति के मन में एक उत्सुकता here हुई उनको एक झलक देखने की.

अब सभी निकलने को तैयार थे. चैतन्य ने अपनी कार घर के दरवाज़े पर ले आया. उसके पिताजी उसके साथ सामने बैठ गए. और कलावती, सुमति और रोहित एक साथ पीछे. सुमति बीच की सीट में बैठी थी. अब तो उसकी हाइट कम थी तो उसके पैर बीच की सीट में आराम से आ गए. औरत होने का एक फायदा और!, सुमति सोच कर मुस्कुरा दी. वैसे भी वो अपनी शादी की खरीददारी के बारे में सोच कर ही खुश थी. “सुमति बेटा, तुम्हे पता तो है न कि तुम शादी के दिन क्या पहनना चाहोगी?

"I can now get more info start out to visualize the opportunity of the matters I want to attain in my lifestyle!" JP Jahnavi Pandey

सुमति को ज़रा भी अंदाजा नहीं था कि कोई उसके कमरे में यूँ चल कर आ सकता है जब वो तैयार हो रही हो. आखिर तमीज़ भी कोई चीज़ होती है. उसने तो अपने ब्लाउज को भी अपनी साड़ी के आँचल से अब तक ढंका नहीं था. वो तो अब तक अपनी कमर के निचे प्लेट ही बना रही थी. उसने झट से अपनी साड़ी को दोनों हाथों से पकड़ा और तुरंत उससे अपने सीने को छुपाने लगी. ठीक वैसे ही जैसे कोई भी औरत करेगी यदि कोई अनजान आदमी उसके कमरे में घुसा चला आये.

मधुरिमा ने सलाद बनाना शुरू किया और साथ ही साथ अपने नखरे भी दिखाती रही.

As you center on good ideas, affirmations, and mantras through this deeply peaceful condition, your subconscious will right website away begin to reply and take these positives as truth in your case. It is possible to meditate by sitting, lying flat in bed or perhaps walking.

Allow the following tips to assist you start on reprogramming your subconscious mind and finding independence with the beliefs that have modified your actuality in unfavorable ways.

wikiHow Contributor Desires and nightmares are imagined to get several Rewards for that mind and brain. Lousy dreams really are a way on your brain to exercise addressing challenging and emotional predicaments so that you're better prepared to facial area problems and challenges in real existence. You'll constantly have A few of these, whether you remember them or not. On the other hand, the more pressured, afraid, or or else agitated that you are, the greater probably They may be to increase in frequency and depth.

To provide you with a tangible case in point, visualize you will be an Grownup who has been advised your entire everyday living you were Silly. From The instant you had been sufficiently old to be familiar with, your mother and father instilled these thoughts which grew to become beliefs inside the subconscious mind.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *